क्या जीत के बाद बढ़ेगा देवेंद्र फडणवीस का राजनीतिक कद?

महाराष्ट्र में एनडीए को मिली इतनी बड़ी जीत जाहिर तौर पर भारतीय जनता पार्टी में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का कद बढ़ाएगी. देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र में बीजेपी के कद्दावर नेता बनकर उभरे हैं. उन्होंने शिवसेना के साथ हुए गठबंधन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

लोकसभा चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी के गठबंधन वाली एनडीए प्रचंड बहुमत से जीत हासिल करने में कामयाब हुई है. एनडीए कुल 348 सीटों पर जीती है. महाराष्ट्र में भी एनडीए का जादू वोटरों के सिर चढ़कर बोला. बीजेपी-शिवसेना गठबंधन 40 सीटों पर जीत हासिल करने के करीब है. इस सीट पर यूपीए के खाते में 7 सीटें और अन्य पार्टियों के खाते में 1 सीटें जाती दिख रही हैं. ऐसे में मोदी लहर के साथ-साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मेहनत से भी इनकार नहीं किया जा सकता.

शिवसेना को लाए साथ

23 जनवरी 2018 को बीजेपी और शिवसेना की करीब 25 साल पुरानी दोस्ती टूट गई और पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने 2019 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान कर दिया. उस वक्त शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मीडिया के सामने कहा था कि मैं वचन देता हूं कि हम अपने दम पर देश के सभी राज्यों में चुनाव लड़ेंगे चाहे जीतें या हारे लेकिन चुनाव अपने दम पर ही लड़ेंगे. उस वक्त शिवसेना ने यह भी दावा किया था कि वो 2019 के लोकसभा चुनाव में 25 और विधानसभा चुनाव में 150 सीटें जीतेगी. 2014 के विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी और शिवसेना में कुछ फैसलों और महाराष्ट्र में वर्चस्व को लेकर मतभेद शुरू हो गए. किसानों के मुद्दे से लेकर पानी की समस्या तक पर सरकार में सहयोगी शिवसेना ने ही सवाल उठाए और फडणवीस को इसके लिए जिम्मेदार बताया. लेकिन फडणवीस ने बहुत आसानी से शिवसेना को अपने पाले में कर लिया. महाराष्ट्र में एनडीए को मिली यह बड़ी जीत पार्टी आलाकमान की नजर में उनके कद को बढ़ाने वाली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *