जनता का 150 सौ करोड़ रुपये पानी में डूब गए पिंपरी चिंचवाड महानगरपालिका का अंधाधुंध कारोबार

पिंपरी:- ( वास्तव चक्र न्यूज़ ) पिंपरी चिंचवड महानगरपालिके का घिनौना पराक्रम चिखली एसटीपी प्लांट ( waterpurification plant) पूरी तरह पानी में कितना अंधाधुंध कारोबार महानगरपालिके का दिखाई देता है . यहां रहेने वाले स्थानिक और रिव्हर रेसिडेन्सी के नागरिको का आक्रामक विरोध होते हुए भी इस एसटीपी प्लांट को वहाके नगरसेवकों ने जनता के लिए नहीं सिर्फ टक्केवारी (Comission) के लिए जनता का टॅक्स रूपी वसुले गए 150 सौ करोड़ रुपये की बर्बादी खुलेआम हो गई ।

रिव्हर रेसिडेन्सी के नागरिकों द्वारा तीव्र विरोध करने पर 6 महिने पहले ही ( ग्रीन जोन) होने के कारण, इस प्लांट को पर्यावरण के तरफ से स्टे आर्डर लाकर पुरी तरह से काम बंद कर दिया गया था ।
लेकिन महानगरपालिका के आयुक्त श्रवण हर्डीकर अपनी पावर का दुरुपयोग करते हुए दुबारा पिछले 45 दिनों से स्टे आर्डर होने के बावजूद आमदार के दबाव में दुबारा काम शुरू किया ।

सत्ता का दुरुपयोग करते हुए भाजपा का यह जिता जागता उदाहरण है , कि कैसे
आमदार के इशारे पर कट-पुतली की तरह नाचते हैं पिंपरी चिंचवाड महानगरपालिका के आयुक्त श्रवण हर्डीकर ।

भाजपा के नेता और आयुक्त श्रवण हर्डीकर शायद यह भूल गए कि इस पराक्रम को पुरा पिंपरी चिंचवाड शहर ही नहीं बल्कि आज सारा देश देख रहा है ।

मा . विरोधी पक्ष नेता दत्ता काका साने